Book review of – Zindagi ek safar

book review, the sorting hat
book review, the sorting hat
Zindagi ek safar

 

ज़िन्दगी एक सफ़र यह पुस्तक श्रीधर पाण्डेय द्वारा लिखी गयी है। इस पुस्तक में कुल 232 पन्ने हैं। यह पुस्तक श्रीधर पाण्डेय जी के जीवन के बारे में लिखी गयी है। इस पुस्तक का प्रकाशन हिंदी भाषा में हुआ है।

कहानी की शुरुवात होती है लेखक के जन्म से जो किसी चमत्कार से कम नहीं है। फिर उनका बचपन, उनके परिवार के बारे में और उनकी पढ़ाई के बारे में जिक्र हुआ है। फिर उसके बाद उनकी शादी के बारे में कुछ पृष्ठ हैं जिनमें उन्होंने बताया है के किस तरह उन्होने अपने घरवालों के खिलाफ प्रेम विवाह किया और किस तरह उनकी शादी को उनके परिवार वालों ने सहमति नहीं दी।

इसी तरह से लेखक का पूरा जीवन चरित्र इस पुस्तक में लिखा हुआ है। किताब के आखिरी पन्नों में उन्होंने निर्भया के बारे में थोड़ा लिखा है और ये बताया है कि इस घटना से वो कितने प्रभावित हुए थे। लेखक ने हिंदी भाषा का अच्छा इस्तेमाल करते हुए कहानी लिखी है।

मैं हिंदी किताबें ज़्यादा नहीं पढ़ती तो मुझे इस किताब को पढ़ने में ज्यादा कुछ मज़ा नहीं आया। किताब का cover page बहुत सदा से है। अगर वो थोड़ा आकर्षक होता तो शायद ज्यादा हिंदी पाठकों को आकर्षित कर पाता।
अगर आप एक हिंदी उपन्यास की तलाश में है तो इसे ज़रूर पढें।

Leave a Reply